देवकी के नंदन, यशोदा के लला की जय हो।

गोपियों के प्रिय, राधा के प्रियतम की जय हो ।।

माखन चोर, नटखट, बांसुरी बजैया तुम्हारी जय हो।

हे अपरिभाषित, हे कृष्ण मुरारी, तुम्हारी जय हो।।

कृष्ण जन्माष्टमी की शुभकामनाएं।

Advertisements